Hello Folks! Welcome to Our Blog.

Do not let the age of marriage be 25 * Do not let more than 25 years of age for marriage * Read this fact a little deeper. * * Shattering family, crumbling society and stifling relationships. * * Just think why all this is happening today.? * एक * A harsh truth .. !!! * * Now-a-days parents too interfere in the girls’ house and spoil their house! * * Do not forget that after marriage, the real parents are her father-in-law. * * Who is responsible for the situation today ..? * * Most of these children without sanskars in the name of modern education. * * Relationships were earlier. Relationships are no longer the deal. * * There is no courage left in any parent to be able to relate the children to their own wish. * * First used to watch the family. Used to watch social events and fun and now …. * * Beauty of body, not of mind, job, wealth, car, Bengali. * * The boys need a girl’s big house so that they can get enough dowry and the girls have a money boy so that the daughter does not have to work. * * Be a servant. The family should be small so that you do not have to work and in this short affair the family has become very small. * * Leave the grandparents, the parents have also become a burden. Today, the family is left for the purpose. !! * * Family means husband wife and child bus. Who asks the society when the family is so small ..? * * Even if the boy earns 20 thousand months. Even if the businessman earns two lakhs a month, the first choice will be a job worker. * * The only reason for this is that the jobber will be far and away. You will get full freedom in the name of job, work load will also be reduced. Come to the hotel to eat food. * * There will be less relation of the social workers with the society, so there is no fear of the society. * A well-connected and large family is always good. If three out of five are wrong, two will be correct because the five fingers are not equal. But if only one is right or wrong, pay * In earlier relationships people used to say that my daughter knows all the household chores and now …. * * We are proud to say that we have never done any domestic work to our daughter. * Bio-data groups are opening day. Age only 30 to 40 years. Education is also what to say .. * * Many degree holders are getting bio data of hundreds and girls every day but the relationship is not happening. The reason is the same .. * * They are not looking for a better relationship. The market of relationships is punished like the carts. Maybe another new vehicle will be launched. Age is increasing in this cycle. * * Now more biodata groups are being made. * * Divorced Group * * Widow widower group * * A strange spectacle is happening. Everybody is falling in search of good. * * Now, who should explain to them that the glow in the face in an age does not persist in adulthood, even if you get lakhs of colors done by going to a beautician. * * Is spreading like a thing and infection. The job guy needs only a girl with a job. * * Now that she earns herself then why would she respect you or your parents. * * Get food from the hotel or make it yourself * * This is the only reason for most stress nowadays * * There is absolutely no authority over each other. No tolerance at all from above. It ended in suicide and divorce. * * Family moves by bending the house, not by reason. * * To live in life, two loaves and a small house is needed, and the most important is the mutual coordination and love of love but ….. * * Nowadays, a big house and a big car are needed, even if you remain a maid instead of a mistress. * Even if a poor woman is made queen by love, she may not be the first choice. I would say this much to the people like the job, that if Dhirubhai Ambani also liked the job, today lakhs of servants would not be under him. * Change thinking …. * * Parents also interfere in the girls’ house more than necessary nowadays and spoil their house. * * Do not forget that after marriage her real parents are her in-laws. Your house was just a guest. * * Many mothers-in-law spoil their own house by praising their daughter-in-law. Daughter can never become daughter-in-law. The desire of the daughter is due to the relationship of blood but in spite of being a stranger, your house is also home, also a maid and a total driver and a bridge between you and your son. Daughter-in-law happy, family happy otherwise …. * * Nowadays all the facilities are available in every house …. * * Clothes washing machine * * Masala Grinder * * Motor for filling water * * TV for entertainment * * Talking mobile * * Still unsatisfying … * * Earlier there was no facility for all this. Complete entertainment was family and household work, so the useless words did not come to mind. * Neither divorce nor hanging * * Nowadays, by talking on the mobile three times a day, half an hour three hours a day, watching the serial serial, spending time in the beautician. * * I laugh when I hear this jumla that the housework does not get free time. For girls, I will only say that for the first time, in-laws or colleges are almost equal. If there is too much ragging too, bear it. * * If you are a junior in college today, you will become a senior tomorrow. If you have a daughter-in-law today, then you will be a mother-in-law tomorrow. * Get married on time. Bring tolerance in nature. Honor all the small children in the family. Interest will be refunded. * * Do not be self-centered. There is ups and downs in life. Think, then decide. Get equal opinion from the elder. Have full faith in the experience they convey. * * It is only a request to the people of the society to get married at the right age in the society. Work in that direction. Be less expensive Wealthy hands make money unnecessarily in marriage, the poor are crushed after them. * * If you feel right, then do share * * A harsh truth 🙏👏🚩 * *शादी के लिए 25 से ज्यादा उमर का ना होने दें🌹🌹**इस तथ्य को थोड़ा गहराई से पढिये ।**बिखरते परिवार , टूटता समाज और दम तोड़ते रिश्ते.!**जरा सोचिए आज ये सब क्यों हो रहा है.?*👉 *एक कटु सत्य..!!!**आजकल माँ-बाप भी जरूरत से ज्यादा लडकियों के घर में हस्तक्षेप करके उसका घर खराब करते हैं!**यह मत भूलो कि शादी के बाद असली माँ बाप उसके सास ससुर होते हैं।**आज जो हालात हैं उसके जिम्मेदार कौन है..?**सर्वाधिक ये आधुनिक शिक्षा के नाम पर संस्कार विहीन बच्चे।* *रिश्ते तो पहले होते थे। अब रिश्ते नही सौदे होते हैं।**किसी भी माँ बाप मे अब इतनी हिम्मत शेष नही बची कि बच्चों का रिश्ता अपनी मर्जी से कर सकें।**पहले खानदान देखते थे। सामाजिक पकङ और सँस्कार देखते थे और अब ….**मन की नही तन की सुन्दरता , नौकरी , दौलत , कार , बँगला।* *लङके वालो को लङकी बङे घर की चाहिए ताकि भरपूर दहेज मिल सके और लङकी वालोँ को पैसे वाला लङका ताकि बेटी को काम करना न पङे।**नौकर चाकर हो। परिवार छोटा ही हो ताकि काम न करना पङे और इस छोटे के चक्कर मे परिवार कुछ ज्यादा ही छोटा हो गया है।**दादा दादी तो छोङो , माँ बाप भी बोझ बन गये हैं। आज परिवार सिर्फ़ मतलब के लिए रह गया.!!* *परिवार मतलब पति पत्नी और बच्चे बस। जब परिवार इतना छोटा है तो फिर समाज को कौन पूछता है..?**लङका चाहे 20 हजार महीने ही कमाता हो। व्यापारी लङका भले ही दो लाख महीने कमाता हो पहली पसंद नौकरीपेशा ही होगा।**इसका कारण केवल ये है कि नौकरी वाला दूर और अलग रहेगा। नौकरी के नाम पर फुल आजादी मिलेगी , काम का बोझ भी कम। आये दिन होटल मे खाना घूमना।**नौकरीपेशा वालों का समाज से सम्बन्ध भी कम ही मिलेगा ऐसे मे समाज का डर भी नही।**सँयुक्त और बङा परिवार सदैव अच्छा होता है। पाँच मे तीन गलत होंगे तो दो तो सही होंगे क्योंकि पाँचो उँगलियाँ बराबर नही होती। लेकिन एक ही है तो सही हो या गलत भुगतो।* *पहले रिश्तों में लोग कहते थे कि मेरी बेटी घर के सारे काम जानती है और अब….**हमने बेटी से कभी घर का काम नहीं कराया यह कहने में शान समझते हैं।**आये दिन बायोडाटा ग्रुप खुल रहे हैं। उम्र मात्र 30 से 40 साल। एजुकेशन भी ऐसी कि क्या कहना..**कई डिग्री धारक रोज सैकङों लङके और लङकियों के बायोडाटा आ रहे हैं लेकिन रिश्ते नही हो रहे हैं। इसका कारण एक ही है..**इन्हें रिश्ता नहीं बेहतर की तलाश है। रिश्तों का बाजार सजा है गाङियों की तरह। शायद और कोई नयी गाङी लांच हो जाये। इसी चक्कर मे उम्र बढ रही है।* *अब तो और भी बायोडाटा ग्रुप बन रहे हैं।**तलाकशुदा ग्रुप**विधवा विधुर ग्रुप* *अजीब सा तमाशा हो रहा है। अच्छे की तलाश में सब अधेङ हो रहे हैं।**अब इनको कौन समझाये कि एक उम्र में जो चेहरे में चमक होती है वो अधेड होने पर कायम नही रहती , भले ही लाख रंगरोगन करवा लो ब्युटिपार्लर में जाकर।**एक चीज और संक्रमण की तरह फैल रही है। नौकरी वाले लङके को नौकरी वाली ही लड़की चाहिये।* *अब जब वो खुद ही कमायेगी तो क्यों तुम्हारी या तुम्हारे माँ बाप की इज्जत करेगी.?**खाना होटल से मँगाओ या खुद बनाओ**बस यही सब कारण है आजकल अधिकाँश तनाव के**एक दूसरे पर अधिकार तो बिल्कुल ही नही रहा। उपर से सहनशीलता तो बिल्कुल भी नहीं। इसका अंत आत्महत्या और तलाक।**घर परिवार झुकने से चलता है , अकङने से नहीं.।**जीवन मे जीने के लिये दो रोटी और छोटे से घर की जरूरत है बस और सबसे जरुरी आपसी तालमेल और प्रेम प्यार की लेकिन…..**आजकल बड़ा घर व बड़ी गाड़ी ही चाहिए चाहे मालकिन की जगह दासी बनकर ही रहे।**एक गरीब अगर प्यार से रानी बनाकर भी रखे तो वो पहली पसंद नही हो सकती। नौकरी पसँद वालों को इतना ही कहूँगा कि अगर धीरुभाई अंबानी भी नौकरी पसँद करता तो आज लाखों नौकर उसके अधीन नही होते।**सोच बदलो….* *माँ बाप भी आजकल जरुरत से ज्यादा लङकियों के घर मे हस्तक्षेप करके उसका घर खराब करते हैं।**मत भूलो शादी के बाद उसके असली माँ बाप उसके सास ससुर होते हैं। आपके घर तो बस मेहमान थी।**कई सास बहू के सामने बेटी की तारीफ करके अपना खुद का घर खुद खराब करती हैं। बेटी कभी भी बहू नही बन सकती। बेटी की चाहत खून के रिश्ते के कारण है लेकिन बहू अजनबी होकर भी आपकी गृहलक्ष्मी भी है , नौकरानी भी है और कुल चालक भी और आपके और आपके बेटे के मध्य सेतु भी। बहू खुश तो परिवार खुश अन्यथा….**आजकल हर घरों मे सारी सुविधाएं मौजूद हैं….* *कपङा धोने की वाशिँग मशीन* *मसाला पीसने की मिक्सी**पानी भरने के लिए मोटर* *मनोरंजन के लिये टीवी* *बात करने मोबाइल* *फिर भी असँतुष्ट…* *पहले ये सब कोई सुविधा नहीं थी। पूरा मनोरंजन का साधन परिवार और घर का काम था , इसलिए फालतू की बातें दिमाग मे नहीं आती थी।**न तलाक न फाँसी* *आजकल दिन मे तीन बार आधा आधा घँटे मोबाइल मे बात करके , घँटो सीरियल देखकर , ब्युटिपार्लर मे समय बिताकर।* *मैं जब ये जुमला सुनता हूँ कि घर के काम से फुर्सत नही मिलती तो हंसी आती है। लड़कियों के लिये केवल इतना ही कहूँगा कि पहली बार ससुराल हो या कालेज लगभग बराबर होता है। थोङी बहुत अगर रैगिँग भी होती है तो सहन कर लो।**कालेज मे आज जूनियर हो तो कल सीनियर बनोगे। ससुराल मे आज बहू हो तो कल सास बनोगी।**समय से शादी करो। स्वभाव मे सहनशीलता लाओ। परिवार में सभी छोटे बङो का सम्मान करो। ब्याज सहित वापिस मिलेगा।* *आत्मधाती मत बनो। जीवन मे उतार चढाव आता है। सोचो समझो फिर फैसला लो। बङो से बराबर राय लो। उनके द्वारा बताए अनुभव पर पूरा विश्वास रखो।**समाज के लोगों से बस इतना ही निवेदन है कि समाज मे सही उम्र मे शादी हो। उस दिशा मे काम करें। कम खर्चीली हो। धनी सेठ करोङो रुपए बेवजह शादी मे लुटा देते हैं , उनके अनुसरण मे गरीब पिसते हैं।**🙏अगर सही लगे तो शेयर जरुर करे🙏* *👆एक कटु सत्य 🙏👏🚩*

Leave a Reply

Digital Network Hub
Ad1
Ad2